Khan sir

90 / 100

Khan sir अमिताभ बच्चन जी को बिहार आकर लिट्टी खाने का न्योता दिया: खान साहब ने पटना में कहा- स्वभाव में सख्ती जरूरी, समंदर खारा न होता तो लोग पी लेते

Table of Contents

Khan sir


Khan sir : खान साहब पटना में केबीसी से लौटे और कहा कि अमिताभ बच्चन से मिलकर बहुत अच्छा लगा। वह बहुत अच्छे इंसान हैं और जमीन से जुड़े हुए हैं। जब भी हमें बिहार की धरती का ऋण चुकाने का मौका मिलता है, भारतीय स्तर पर या विश्व स्तर पर जो कुछ भी होता है, हम जाकर बताते हैं। बदनाम हो गए हैं लेकिन बुरे इंसान नहीं हैं. हमने अमिताभ बच्चन को भी बिहार आने का निमंत्रण दिया है,

कहा है कि अगर वह आएंगे तो हम उन्हें लिट्टी चोखा खिलाएंगे. इसके साथ ही उन्होंने अपने वायरल वीडियो को डिलीट करने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कुछ भी बात सीमा के अंदर होनी चाहिए. मिज़ाज में सख़्ती ज़रूरी है क्योंकि अगर समंदर खारा न होता तो लोग पीते।


दरअसल, खान सर आज पटना में महिला विकास मंच के दसवें स्थापना दिवस समारोह में भाग लेने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि समाज से हम हमेशा कुछ न कुछ सीखते हैं. यहां आने के बाद इतनी सारी महिलाओं की समस्याओं और साहस की कहानियां सुनकर मैं खुद भी प्रेरित हो रही हूं।


Khan sir अपने डिलीट किए गए वीडियो पर भी दी प्रतिक्रिया
खान सर जो अपने वायरल वीडियो डिलीट कर देते हैं. इस पर उन्होंने कहा कि अगर मामला बिगड़ गया तो कोई भी वीडियो डिलीट कर देगा. यहां चैनल कौन सा वीडियो चलाता है? यदि कोई निरर्थक बातों को महत्व देगा तो यही होगा। कोई भी चीज सीमा के अंदर होनी चाहिए. मिज़ाज में सख़्ती ज़रूरी है क्योंकि अगर समंदर खारा न होता तो लोग पीते।
Khan sir ने बीपीएससी पर कहा


बीपीएससी की परीक्षा हुई और इस बार बड़ी संख्या में महिलाएं परीक्षा में शामिल हुईं. कुछ प्रश्न बहुत आसान थे और कुछ कठिन थे। लेकिन बच्चों ने कड़ी मेहनत की. समाज बदल रहा है और महिलाओं को भी ऐसा मंच मिल रहा है, ऐसे में अगर वे पुरुषों के साथ कदम मिलाकर चलेंगी तो यह देश के लिए बड़े सौभाग्य की बात होगी। पीटी का रिजल्ट घोषित होने तक कोई भी छात्र मेन्स की तैयारी शुरू नहीं करता है.

Khan sir कोई भी लड़का हवा में तैयारी नहीं करता. इसलिए पीटी परीक्षा और मेन्स के बीच 2 से 3 महीने का अंतर जरूरी था. या तो रिजल्ट पहले जारी किया जाना चाहिए था. सभी बच्चे अमीर परिवारों से नहीं होते, गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ पार्ट टाइम नौकरी भी करते हैं। उनके पास इतने कम समय में मेन्स की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं है। इसके साथ ही

Khan sir कार्यक्रम के दौरान महिला विकास मंच की संरक्षक वीणा मानवी द्वारा संगठन से संबंधित कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये. वीणा मानवी ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में महिला विकास मंच ने 500 से अधिक मामलों का निष्पादन किया है. पिछले कुछ महीनों में प्रदेश की जनता का संगठन के प्रति विश्वास और बढ़ा है। वीणा मानवी ने कहा कि महिला विकास मंच में न सिर्फ बिहार बल्कि यूपी और झारखंड से भी शिकायतकर्ताओं की संख्या लगातार बढ़ रही है.


Khan sir कार्यक्रम में देशभर से लगभग 400 पदाधिकारी उपस्थित थे। बैठक में अरुणिमा कुमारी के नेतृत्व में देशभर से आये पदाधिकारियों का स्वागत किया गया. आज आयोजित स्थापना दिवस समारोह की अध्यक्षता पीके चौधरी ने की, कार्यक्रम का संचालन अरुणिमा और समापन वीना मानवी ने किया. कार्यक्रम में फाहिमा खातून, प्रदेश उपाध्यक्ष पप्पू जयसवाल, चंदन जयसवाल, सरिता राज, पूनम सलूजा, रांची से स्नेहदा गुप्ता, वाराणसी से स्नेह दास, गाजीपुर से मधु यादव समेत पूरे बिहार से सैकड़ों पदाधिकारी शामिल हुए.

खान सर ने महिला विकास मंच के स्थापना दिवस पर दिया प्रेरणादायक भाषण

पटना, 13 अक्टूबर 2023: महिला विकास मंच के 10वें स्थापना दिवस के मौके पर पटना में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में जाने-माने शिक्षक और मोटिवेशनल स्पीकर खान सर मौजूद रहे। खान सर ने अपने भाषण में महिलाओं को शिक्षा और आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित किया।

खान सर ने कहा कि महिलाएं समाज की रीढ़ हैं। जब महिलाएं शिक्षित और आत्मनिर्भर होती हैं, तो समाज प्रगति करता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को शिक्षा के अवसरों Khan sir वंचित नहीं रखा जाना चाहिए। उन्हें हर क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

Khan sir

Khan sir ने महिलाओं को बताया कि वे अपने जीवन में किसी भी लक्ष्य को प्राप्त कर सकती हैं। इसके लिए उन्हें दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत की जरूरत है। उन्होंने कहा कि महिलाएं पुरुषों से कम नहीं हैं। वे हर क्षेत्र में पुरुषों के बराबर की उपलब्धियां हासिल कर सकती हैं।

Khan sir के भाषण से महिलाओं को काफी प्रेरणा मिली। उन्होंने कहा कि वे खान सर की बातों को अपने जीवन में उतारने की पूरी कोशिश करेंगी।

कार्यक्रम में महिला विकास मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष वीणा मानवी ने कहा कि खान सर का भाषण महिलाओं के लिए एक प्रेरणा है। उन्होंने कहा कि खान सर ने महिलाओं को शिक्षा और आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित किया है।

कार्यक्रम में बिहार सरकार के मंत्री पीके चौधरी भी मौजूद रहे। उन्होंने महिला विकास मंच के कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि महिला विकास मंच महिलाओं के उत्थान के लिए महत्वपूर्ण काम कर रहा है।

कार्यक्रम में पूरे देश से लगभग 400 महिलाएं उपस्थित थीं। उन्होंने खान सर के भाषण को ध्यान से सुना और उनसे प्रेरणा ली।

खान सर का परिचय

खान सर का पूरा नाम फैज अहमद खान है। वे बिहार के पटना शहर के रहने वाले हैं। वे एक जाने-माने शिक्षक, मोटिवेशनल स्पीकर और यूट्यूबर हैं। खान सर को उनकी अनूठी शिक्षण शैली और प्रेरणादायक भाषण के लिए जाना जाता है।

Khan sir का जन्म 1988 में बिहार के एक छोटे से गांव में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही स्कूल से पूरी की। बाद में उन्होंने पटना के एक कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

खान सर ने 2010 में एक शिक्षक के रूप में अपना करियर शुरू किया। उन्होंने पटना के एक सरकारी स्कूल में पढ़ाना शुरू किया। खान सर की शिक्षण शैली बहुत ही अनूठी है। वह अपने छात्रों को रोचक तरीके से पढ़ाते हैं। उन्होंने अपने छात्रों को परीक्षा में सफल होने के लिए कई तरह के टिप्स और ट्रिक्स भी बताए हैं।

खान सर ने 2015 में यूट्यूब पर अपना चैनल शुरू किया। उनके चैनल पर विभिन्न विषयों पर वीडियो अपलोड होते हैं। Khan sir के चैनल पर लाखों सब्सक्राइबर हैं। उनके वीडियो को लाखों लोगों ने देखा है।

खान सर एक प्रेरणादायक स्पीकर भी हैं। वह अक्सर युवाओं को अपने जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित करते हैं। उन्होंने कई कार्यक्रमों में अपने प्रेरणादायक भाषण दिए हैं।

खान सर को उनके काम के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। उन्हें 2020 में बिहार सरकार द्वारा “शिक्षा रत्न” पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

खान सर की उपलब्धियां

खान सर ने अपने करियर में कई उपलब्धियां हासिल की हैं। इनमें से कुछ प्रमुख उपलब्धियां निम्नलिखित हैं:

  • एक शिक्षक के रूप में, खान सर ने अपने छात्रों को परीक्षा में सफल होने के लिए कई तरह के टिप्स और ट्रिक्स दिए हैं।
  • उन्होंने यूट्यूब पर अपने चैनल के माध्यम से लाखों लोगों को शिक्षित किया है।
  • एक प्रेरणादायक स्पीकर के रूप में, उन्होंने युवाओं को अपने जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित किया है।
  • उन्हें उनके काम के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

खान सर का प्रभाव

Khan sir ने भारतीय शिक्षा प्रणाली पर एक बड़ा प्रभाव डाला है। उनकी अनूठी शिक्षण शैली ने कई छात्रों को परीक्षा में सफल होने में मदद की है। उन्होंने यूट्यूब पर अपने चैनल के माध्यम से लाखों लोगों को शिक्षित किया है। एक प्रेरणादायक स्पीकर के रूप में, उन्होंने युवाओं को अपने जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित किया है।

Khan sir एक प्रेरणादायक व्यक्तित्व हैं। उन्होंने अपने जीवन में कई चुनौतियों का सामना किया है, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से अपने जीवन में सफलता हासिल की है। खान सर के जीवन से प्रेरणा लेकर हम भी अपने जीवन में सफलता हासिल कर सकते हैं।

खान सर की मासिक आय लगभग 10-12 लाख रुपये है। उनकी आय का मुख्य स्रोत यूट्यूब है। खान सर के यूट्यूब चैनल पर 10.8 मिलियन सब्सक्राइबर हैं। उनके चैनल पर हर महीने लाखों व्यूज आते हैं। खान सर यूट्यूब से विज्ञापनों के माध्यम से कमाते हैं।

Khan sir की आय का दूसरा स्रोत उनकी कोचिंग इंस्टीट्यूट है। खान सर पटना में एक कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाते हैं। इस इंस्टीट्यूट में प्रतिवर्ष हजारों छात्र पढ़ते हैं। खान सर इस इंस्टीट्यूट से फीस के रूप में भी कमाते हैं।

खान सर की आय का तीसरा स्रोत उनके प्रेरक भाषण हैं। खान सर अक्सर विभिन्न कार्यक्रमों में अपने प्रेरक भाषण देते हैं। इन भाषणों के लिए उन्हें अच्छी-खासी फीस मिलती है।

कुल मिलाकर, खान सर एक सफल व्यक्ति हैं। उनकी मासिक आय लाखों रुपये है। वे अपनी कड़ी मेहनत और लगन से इस मुकाम पर पहुंचे हैं।

खान सर की आय के स्रोत

  • यूट्यूब से विज्ञापनों के माध्यम से
  • कोचिंग इंस्टीट्यूट से फीस के रूप में
  • प्रेरक भाषण के लिए फीस के रूप में

खान सर की कुल संपत्ति

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, खान सर की कुल संपत्ति करीब 2.2 मिलियन डॉलर है। यह राशि भारतीय करेंसी में लगभग 16 करोड़ रुपये होती है। खान सर की संपत्ति का मुख्य स्रोत उनकी आय है।

खान सर के पटना में लगभग 30,000 छात्र और छात्राएं हैं। इनमें से अधिकांश छात्र बिहार के विभिन्न हिस्सों से आते हैं। खान सर की कोचिंग इंस्टीट्यूट में प्रतिवर्ष लगभग 10,000 छात्र प्रवेश लेते हैं। इनमें से लगभग 70% छात्र बिहार के बाहर से आते हैं।

Khan sir के छात्रों में से कई ने विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता हासिल की है। इनमें से कुछ छात्र बिहार पुलिस, बिहार सिविल सेवा, और भारतीय पुलिस सेवा में शामिल हुए हैं।

खान सर के छात्रों का कहना है कि उनकी शिक्षण शैली बहुत ही रोचक और प्रभावी है। वे कहते हैं कि खान सर की कोचिंग से उन्हें परीक्षा में सफल होने में मदद मिली है।

खान सर के छात्रों की कुछ सफलताएं

  • बिहार पुलिस में 200 से अधिक छात्र
  • बिहार सिविल सेवा में 50 से अधिक छात्र
  • भारतीय पुलिस सेवा में 10 से अधिक छात्र

खान सर के छात्रों की सफलताएं उनकी शिक्षण शैली की सफलता का प्रमाण हैं। खान सर एक प्रेरणादायक शिक्षक हैं, जो अपने छात्रों को सफल होने के लिए प्रेरित करते हैं।

Leave a Comment